कोविड सेफ्टी प्रोटोकॉल और गलत धारणाओं संबंधी जागरूकता पोस्टर किया जारी

जालंधर – डिप्टी कमिश्नर घनश्याम थोरी ने कहा कि कोविड सेफ्टी प्रोटोकॉल और गलत धारणाओं के खिलाफ जागरूकतामुहिम को तेज़ करने के लिए प्रशासन की तरफ से कोविड -19 महामारी के ख़िलाफ़ जारी जंग में जालंधर के एन.एस.एसवलंटियरों,गाँव स्तर के यूथ क्लबों और रैड -रिबन क्लबोंके 21000 युवाओं को जोड़ा जाएगा।सोमवार को अपने दफ़्तर में कोविड-19 की सावधानियों के बारे में जागरूकता पोस्टर और पैंफलैट जारी करते हुए डिप्टी कमिश्नर ने कहा कि यह मुहिम लोगों को मास्क पहनने, उचित दूरी को बनाए रखने और बुख़ार या अन्य लक्षण होने पर तुरंत डाक्टरके साथ संपर्क करने के बारे में जागरूक करने पर केंद्रित होगी ।उन्होनें कहा कि युवा वालंटियर जल्दी टैस्टिंग और इलाज के संदेश को आगे ले जाने के लिए अम्बैसडरों के तौर पर काम करेंगे। उन्होनें कहा कि महामारी विरुद्ध लड़ाई में पंजाबकी जीत यकीनी बनाने में युवा अहम भूमिका निभा सकते हैं। घनश्याम थोरी ने कहा कि युवाओं में अधिक ऊर्जा होती हैं, जो कि इस अदृष्ट दुश्मन विरुद्ध लड़ाई में कामकरेगी। डिप्टी कमिश्नर ने कहा कि युवा इस अभियान में महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकते हैं, क्योंकि कोविड-19 महामारी पर काबू पाने के लिए सिर्फ़ सावधानी हीएक कुंजी है।

उन्होनें कहा कि भारत विश्व में युवाओं की सबसे अधिक आबादी वाला देश है, जिन के कंधों पर लोगों को कोविड की सावधानियोंके बारे में जागरूक करने की बड़ी ज़िम्मेदारी है जिससे उनका इस महामारी से बचाव हो सके। इस दौरान सहायक डायरेक्टर युवक सेवाएं जसपाल सहोता ने कहा कि जागरूकतागतिविधियों का कार्यक्रम पहले ही तैयार कर लिया गया है और सभी क्लबों के साथ साझाकिया जा चुका है। उन्होनें बताया कि अब वालंटीयर इस कार्यक्रम अनुसार शहरी औरग्रामीण क्षेत्रों को कवर करेंगे। इसअवसर पर सहायक कमिश्नर हरप्रीत सिंह, स्वीप सहायक नोडल अधिकारी सुरजीत लाल, कैप्टन आईएस धामी, प्रोफ़ैसर एस.के मिड्डा और अन्य शामिल थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *