कर्फ्यू में अस्पताल नहीं खुले तो सड़क पर हुई थी डिलीवरी, मदद करने वाले वाले पुलिस कर्मी होंगे सम्मानित

  • डीसी ने की सिफरिश, डीजीपी दिनकर गुप्ता करेंगे एएसआई बिक्कर सिंह व हवलदार सुखजिंदर सिंह को डिस्क प्रदान
  • निजी अस्पताल का दरवाजा नहीं खोलने के मामले की जांच के लिए 3 सदस्यीय कमेटी गठित

मोगा. मोगा में कर्फ्यू की ड्यूटी को ईमानदारी के साथ करने वाले पंजाब पुलिस के दो मुलाजिमों को सम्मानित किया जाएगा। मामला शनिवार रात का है, जब जिले के कस्बा धर्मकोट में आधी रात को कोई अस्पताल नहीं खुलने के बाद महिला ने सड़क पर ही बच्चे को जन्म दिया था। इसके बाद इस महिला को इन्हीं दो पुलिस मुलाजिमों ने घर तक पहुंचाया था। इस मामले को गंभीरता से लेते हुए डीसी ने अस्पताल नहीं खोले जाने की जांच के लिए तीन सदस्यीय कमेटी बनाई है, वहीं दोनों पुलिस मुलाजिमों को सम्मानित करने की सिफारिश की है। डीजीपी दिनकर गुप्ता की ओर से एएसआई बिक्कर सिंह व हवलदार सुखजिंदर सिंह को डिस्क प्रदान की जाएगी।

जिले के कस्बा धर्मकोट में शनिवार रात को एक महिला को प्रसव पीड़ा हुई। परिवार वाले पास के एक क्लीनिक ले गए कर्फ्यू के चलते किसी ने दरवाजा नहीं खोला। इसके बाद रात करीब साढ़े 11 बजे सड़क पर ही बच्चे को जन्म दिया। यह तब संभव हो पाया, जब पता करुणपुकार सुनकर पास ही गश्त कर रहे दो पुलिस मुलाजिमों एएसआई बिक्कर सिंह व हवलदार सुखजिंदर सिंह महिला मदद के लिए दो महिलाओं को बुलाकर लाए और फिर उन महिलाओं ने सड़क पर ही डिलीवरी करवाई थी। इसके बाद पीसीआर वैन में महिला और उसके परिजनो को घर तक छोड़ा। इस मदद की पूरे राज्य में पंजाब पुलिस की सराहना हो रही है।

डीसी ने बनाई सदस्यीय जांच कमेटी
इस मामले को गंभीरता से लेते डीसी संदीप हंस ने सेहत सेवाओं का हनन माना है। उन्होंने एसएमओ को मामले की जांच करवाकर रिपोर्ट सबमिट करने के निर्देश देने के बाद सेहत विभाग ने तीन सदस्यीय कमेटी बनाई है। इसमें सहायक सिविल सर्जन, एसएमओ कोटइसेखां व एसएमओ ढूडीके शामिल हैं। साथ ही दोनों पुलिस मुलाजिमों को सम्मानित करने का फैसला लिया है। डीसी की सिफरिश पर डीजीपी दिनकर गुप्ता की ओर से एएसआई बिक्कर सिंह व हवलदार सुखजिंदर सिंह को डिस्क प्रदान की जाएगी। 

प्राइमरी जांच में यह आया सामने
उधर इस बारे में सहायक सिविल सर्जन डॉक्टर जसवंत सिंह ने कहा कि तीन सदस्य कमेटी जांच करेगी। वहीं उनके द्वारा प्राइमरी जांच की रिपोर्ट एसएमओ कोट ईसे खां डॉक्टर राकेश कुमार बाली से ले ली है। इसमें पाया गया है कि गर्भवती महिला को उसके परिवार के लोग धर्मकोट के निजी अस्पतालों में लेकर गए थे, जहां उन्हें किसी ने दाखिल नहीं किया। डिलीवरी एक दाई ने करवाई है। इसके बाद इलाके की एएनएम ने जच्चा-बच्चा को सरकारी अस्पताल कोट ईसे खां में ले जाकर जरूरी टीकाकरण करवाया है। जच्चा-बच्चा दोनों स्वस्थ हैं।

धर्मकोट नगर कौंसिल और मार्केट कमेटी ने भी किया सम्मानित
उधर, धर्मकोट नगर कौंसिल के अध्यक्ष इंदरप्रीत सिंह बंटी व मार्केट कमेटी के चेयरमैन ने सोमवार को नैतिक जिम्मेदारी निभाने वाले एएसआई बिक्कर सिंह व हवलदार सुखजिंदर सिंह को सम्मानित किया है। उंन्होंने कहा कि इन कर्मियों की तरह अन्य पुलिस कर्मी भी ड्यूटी के साथ लोगो की सहायता करें, जिससे यह कर्फ्यू के दिन आम लोगों के आसानी से कट जाएं। उन्होंने डीएसपी यादविंदर सिंह बाजवा व एसएचओ बलराज मोहन को भी दोशाला भेंट किया।

Source link