‘आप’ की कोर समिति ने अपनाया सख्त रुख, बिजली समझौता रद्द न हुआ तो 16 मार्च को करेगी मोती महल की बत्ती गुल

If power agreement is not canceled, electricity of Moti Mahal will be cut on March 16 – AAP

  • भगवंत मान व बुद्धराम के नेतृत्व में हुई कोर समिति की बैठक में लिया गया है ये फैसला
  • आरोप: वायदे तो किए पर सरकार के 3 साल बीत जाने के बावजूद नहीं किया बिजली समझौता रद्द

चंडीगढ़. अकाली सरकार में हुआ महंगा बिजली समझौता कांग्रेस सरकार के गले की फांस बनी हुई है। इसे लेकर आम आदमी पार्टी प्रदेश सरकार पर बिजली समझौता रद्द करने का दबाव बना रही है।

इसे लेकर आप सांसद भगवंत मान व कोर कमेटी चीफ बुद्धराम के नेतृत्व में हुई कोर समिति की बैठक में यह फैसला किया गया है कि अगर बजट सत्र में बिजली समझौता रद्द नहीं किया गया तो सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह के मोती महल की बिजली 16 मार्च को काट दी जाएगी।

भगवंत मान ने बताया कि कैप्टन सरकार के 3 साल बीत जाने के बावजूद न तो बिजली कंपनियों का आडिट करवाया गया न बादलों की तरफ से किए गए महंगे और एकतरफा बिजली समझौते की समीक्षा करवाई गई।

जबकि 2017 के चुनाव से पहले कांग्रेस ने अपने मैनिफेस्टो में वायदा किया था कि बिजली समझौता रद्द करवाएंगे। मान ने कहा कि अगर समझौता रद्द नहीं हुआ तो पार्टी 16 मार्च को पहले पावरकाॅम के पटियाला स्थित हेड कार्यालय में बिजली समझौतों की कापियां जलाएगी।

Source link